Poetry

जाम – ए – फ़ुरसत

Image source: vinepair
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
3

दुनिया से उम्मीद ना रखूँ
तो ही अच्छा है,
जाम मैं पीता हूँ दुनिया को
फ़ुरसत ही कहाँ है ?

 

तुम भी पूछते हो
क्यों इतनी पीता हूँ ?
जवाब मालूम नहीं मगर
तुम्हारा सवाल अच्छा है।




मेरे बहकते क़दमों को
गिनने वालों,
ज़रा नज़र उठाओ
सीने में दिल भी रखा है।

 

एक जाम उठाओ
शाम को गले लगाओ
दिन की भागदौड़ में
बोलो क्या रखा है ?




Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
3
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Thoughts

To Top
More in Poetry, कविताएं
Heart Broken

When she asked me for favour , I returned something which I never had , Empty pockets and beating heart...

Seasons Change And So Does Luck

When the autumn leaves fall, don't be sad this winter When the ground freezes over with snow, don't be sucked...

Close